छत्तीसगढ़ में मानसून:प्रदेश में हफ्तेभर बाद थमी बारिश, लेकिन आज भी कई जगह मूसलाधार के आसार

प्रदेश के अधिकांश हिस्से में एक हफ्ते से जारी बारिश से शनिवार को थोड़ी राहत मिली। अधिकांश जगह धूप निकली और बीच-बीच में बूंदाबांदी भी हुई। हालांकि बस्तर में दरभा समेत कुछ इलाकों में भारी वर्षा हुई है। मौसम विज्ञानियों ने रविवार को भी सभी जगह बारिश तथा कहीं-कहीं भारी वर्षा के आसार जताए हैं। प्रदेश में एक हफ्ते की झड़ी से राज्य के कई हिस्सों में नदी-नालों में बाढ़ के हालात हैं। शुक्रवार तक अच्छी बारिश हुई, लेकिन शनिवार को मौसम थोड़ा सामान्य रहा और राज्य के ज्यादातर हिस्सों में सिर्फ हल्की बारिश या बूंदाबांदी ही हुई। दक्षिण बस्तर के दरभा में सबसे ज्यादा 67. 4 मिमी बारिश हुई।

इसके अलावा रायगढ़ में 47, रामानुज नगर में 42, कटघोरा में 40, थानखम्हरिया और नवागढ़ में 36-36 तथा मनोरा में 30, लोहंडीगुड़ा में 32 मिमी पानी बरसा। राज्य के सभी जिलों में इस समय तक बारिश सामान्य से ज्यादा है। बीजापुर में 22 अगस्त तक औसत से 98 फ़ीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है।
सरगुजा में ही कम बारिश
इस समय राज्य में सबसे कम बारिश वाला जिला सरगुजा है। यहां औसत से 32 फीसदी कम बारिश हुई है। बाकी सभी जिलों में बारिश औसत के बराबर या उससे ज्यादा है। राज्य में अब तक औसत से 10 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। 1 जून से 22 अगस्त तक 930.8 मिमी पानी बरसा है। इस दौरान 844.8 मिमी बारिश होनी चाहिए।
एक और मानसून द्रोणिका
लालपुर मौसम केंद्र के मौसम विज्ञानी एच पी चंद्रा के अनुसार मानसून द्रोणिका अपनी सामान्य स्थिति में जैसलमेर, भीलवाड़ा, उत्तर पश्चिम मध्यप्रदेश, सीधी, डाल्टनगंज, कोलकाता और उसके बाद दक्षिण पूर्व दिशा की ओर होते हुए उत्तर बंगाल की खाड़ी तक है। 23 अगस्त को प्रदेश के अनेक स्थानों पर गरज-चमक के साथ हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी वर्षा संभव है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post

RVKD NEWS

Ads1

Facebook

Ads2