बाढ़ का खतरा:24 घंटे में रिकार्ड 51 मिलीमीटर औसत बारिश, बांगो बांध का जलस्तर 56 सेंटीमीटर बढ़ा, फिर खुले 5 गेट

  • बांध के गेट व हाइडल प्लांट से 34836 क्यूसेक पानी छोड़ा, अलर्ट जारी
  • पहली बार लगातार 11 दिन से छोड़ा जा रहा पानी फिर भी जलस्तर कम नहीं हुआ

जिले में दो दिनों से रुक रुककर बारिश हो रही है। रविवार को भी बारिश होती रही। 24 घंटे में 51 मिलीमीटर औसत बारिश दर्ज की गई है। जो इस मानसून सीजन में सबसे अधिक है। बांगो बांध का जलस्तर शनिवार से बढ़ना शुरू हुआ था। रविवार को सुबह तक 56 सेंटीमीटर बढ़कर 358.41 मीटर पर पहुंच गया। इसके बाद दो और गेट खोल दिए गए। पांच गेट से 25836 व हाइडल प्लांट से 9 हजार क्यूसेक पानी नदी में छोड़ा जा रहा है। बांगो बांध बनने के 28 साल बाद पहली बार 11 दिनों तक लगातार गेट खोलने की नौबत आई है। बाढ़ की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। दर्री बराज के गेट खोलकर नदी में पानी छोड़ने से जलस्तर बढ़ गया। शहर के बेलगरी नाला व ढेंगुरनाला व अहिरन नदी का पानी हसदेव में बराज के नीचे मिलता है। जिसकी वजह से सीतामढ़ी, इमलीडुग्गू, राताखार क्षेत्र में बाढ़ की आशंका बढ़ जाती है। निगम प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों में मुनादी कराकर लोगों को सतर्क किया। बालको के परसाभाठा, नेहरूनगर, बेलगरी बस्ती, आजादनगर, कैलाशनगर क्षेत्र में भी अलर्ट जारी किया गया है। बांगो का पानी शाम को दर्री बराज पहुंचा। इसके बाद पानी छोड़ने की मात्रा बढ़ा दी गई है। नालों में रिवर्स पानी के कारण बस्तियों में बाढ़ आती है।

जलस्तर कम होने पर तीन गेट ही पहले खुले थे, बढ़ा तो दो गेट और खाले गए

तीन दिन पहले बांगो बांध का जलस्तर 357.86 मीटर तक पहुंच गया था। बांध की क्षमता 359.66 मीटर है। जलस्तर कम होने पर दो गेट बंद कर दिए गए थे। तीन गेट से ही 14 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। लेकिन कोरिया जिले में झमाझम बारिश होने पर जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। जिसकी वजह से ही दो गेट और खोले गए हैं।

गोकुलनगर मार्ग पर पानी भरने से नदी जैसा हो गया नजारा, आवाजाही में हो रही परेशानी

दो दिन से हो रही बारिश से औद्योगिक परिक्षेत्र से गोकुलनगर मार्ग पर पानी भर गया। जिससे ऐसा लग रहा था कि कोई नदी बह रही है। जिसकी वजह से लोगों को आवाजाही में परेशानी हुई। दादरनाला में भी जलस्तर बढ़ने से आवाजाही प्रभावित रही। सुबह तक पुल के ऊपर पानी बह रहा था। इसकी वजह से आसपास के लोग भी बाढ़ की आशंका से परेशान रहे।

नोनबिर्रा, रामपुर मार्ग पर भी आवाजाही प्रभावित रही
करतला ब्लाॅक के ही नोनबिर्रा से घिनारा के बीच छिंदईनाला का जलस्तर बढ़ गया। इसकी वजह से आवाजाही प्रभावित रही। छिंदईनाला का पुल काफी नीचे है। इसे बढा़ने की मांग की जा रही है। लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। हालांकि दो तीन घंटे में जलस्तर पर कम हो जाता है। लोग रामपुर होते हुए इस मार्ग से रायगढ़ जिला आवाजाही करते हैं।

तेजी से बढ़ा जलस्तर इसलिए खोलना पड़ा गेट: ईई बांगो
हसदेव बांगो परियोजना के ईई केशव कुमार का कहना है कि शनिवार से बांध का जलस्तर बढ़ना शुरू हुआ था। रविवार को भी बढ़ता गया। इस वजह से दो और गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है। जलस्तर पर नजर रखे हुए हैं। पानी की मात्रा बढ़ाई जा सकती है। प्रशासन को इसकी सूचना दे दी गई है।

जमड़ीनाला बौराई पुल के ऊपर से ढाई फीट बह रहा पानी

करतला ब्लॉक के अंतिम छोर में बसे सिवनी से सुखरीकला मार्ग पर जमड़ीनाला पुल के ऊपर ढाई फीट पानी दिन भर बहता रहा। लोग जान जोखिम मेें डालकर पुल के ऊपर से आवाजाही करते रहे। इस मार्ग से अमलडीहा, सुखरीखुर्द पंचायत के साथ ही जांजगीर-चांपा जिले के जाटा, दारंग समेत आसपास गांव के लोग आवाजाही करते हैं।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post

RVKD NEWS

Ads1

Facebook

Ads2