मार्च से अब तक दो प्रवासी मजदूर ही मिले पॉजिटिव, विदेश से लौटे 80, संक्रमितों के संपर्क में आकर 187 बने मरीज

राजधानी में नहीं थम रहा कोरोना का प्रकोप, 37 नए केस; प्रदेश में 65 संक्रमित

रायपुर. राजधानी में शनिवार को 37 और प्रदेश में कोरोना के 65 नए मरीज मिले। रायपुर के मरीजों में एम्स के डॉक्टर, 112 का ड्राइवर, 7 हाउस वाइफ, 3 पुलिस जवान व इतने ही बीएसएफ के जवान संक्रमण मिला है। इसके अलावा जगदलपुर से 9, बिलासपुर से 6, कोरिया से 4, सरगुजा से 3, कोरबा, नारायणपुर से 2-2, कांकेर, धमतरी व दुर्ग से एक-एक मरीज मिले हैं। नए केस के साथ प्रदेश में मरीजों की संख्या 3899 पहुंच गई है। एक्टिव केस 810 है। 42 मरीजों को विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। अब तक 3070 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।
राजधानी में 18 मार्च को मिली पहली कोरोना पॉजिटिव मरीज के बाद से 11 जुलाई तक 638 केस सामने आ चुके हैं, पिछले कुछ दिनों से रोजाना थोक में पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं। चर्चा में था कि लॉकडाउन में ढिलाई के बाद लौटे प्रवासी मजदूरों से ही मामले बढ़े। जबकि आंकड़ों को देखा जाए तो बीते साढ़े चार महीने के दौरान मिले मरीजों में प्रवासियों मजदूरों की संख्या राजधानी में सिर्फ 2 है। रायपुर जिला मिलाकर 10 ही पॉजिटिव मिले। दूसरी ओर विदेश से लौटे 300 से ज्यादा लोगों में 80 कोरोना मरीज मिले, जिनमें 95% छात्र हैं। बड़ी बात यह है कि राजधानी में सबसे ज्यादा मरीज पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आने के कारण मिले, ऐसे 187 कोरोना केस हैं। इसके अलावा 74 हेल्थ वर्कर भी संक्रमित हुए।
एम्स के डॉक्टर, 112 का ड्राइवर, 7 हाउस वाइफ, 3 बीएसएफ भी संक्रमित
नए मरीज मिलने के साथ ही रायपुर में मरीजों की संख्या 638 पहुंच गई है। 31 मई तक रायपुर में केवल 15 मरीज थे। जून के 30 दिन व जुलाई के 11 दिनों में 623 नए मरीज मिले हैं। रोजाना मरीज मिलने का औसत 15 है। प्रदेश में रायपुर में सबसे तेजी से मरीज बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि कुल मरीज व एक्टिव केस के मामले में रायपुर टॉप पर है। यहां एक्टिव केस 296 है। प्रदेश के कुल एक्टिव केस में 40 फीसदी रायपुर में है। इस संख्या से संक्रमण की स्थिति स्पष्ट हो रही है। रायपुर के अलावा अभी बिलासपुर में 89, नारायणपुर में 71, बलौदाबाजार में 44, बस्तर में 35 व जांजगीर-चांपा में 33 एक्टिव मरीज हैं। रायपुर के प्राय: सभी वार्डों में मरीज मिल रहे हैं। पिछले हफ्ते तक एम्स, अंबेडकर अस्पताल व डीकेएस सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल में लगातार मरीज मिल रहे थे। अब इसमें थोड़ी कमी आई है।

टॉप 5 प्रभावित जिले
जिलामरीजएक्टिव
रायपुर638296
कोरबा34230
राजनांदगांव34125
बिलासपुर29289
बलौदाबाजार29144
रायपुर में मिले मरीज
प्राइमरी संपर्क से187
दूसरे राज्य से लौटे112
इंटरनेशनल80
हेल्थ वर्कर74
प्रवासी मजदूर47

विशेषज्ञों से जानिए क्यों बढ़ रहा है संक्रमण
रायपुर में 60 से 70 फीसदी नए मरीज पहले से संक्रमितों के संपर्क में आने से बीमार हैं। विदेश, दूसरे राज्य से आने वालों की संख्या केवल 30 फीसदी है। इससे स्पष्ट है कि लापरवाही में लोग संक्रमितों के संपर्क में आकर बीमार पड़ रहे हैं।

"रायपुर में मरीजों के संपर्क में आने के कारण लोग सबसे ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं। राजनांदगांव समेत दूसरे टॉप जिलों में भी यही स्थिति है। हालांकि वहां कुछ मामलों में बाहर से आए लोग ज्यादा संक्रमित हुए हैं। अब प्रवासी मजदूरों में गिने-चुने केस आ रहे हैं।"
-डॉ. सुभाष पांडेय, मीडिया प्रभारी कोरोना सेल

"लोगों की लापरवाही के कारण कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। जरूरी ऐहतियात तक नहीं बरत रहे हैं। मॉस्क लगाना तो दूर वे भीड़ में पर्याप्त दूरी भी बनाए नहीं रखते। अस्पताल जाते समय भी लापरवाही बरतते हैं। संक्रमण को कम करना है तो अलर्ट होना जरूरी है।"

-डॉ. आरके पंडा, सदस्य कोरोना कोर कमेटी

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post

RVKD NEWS

Ads1

Facebook

Ads2