हरी सब्जियों के दाम दोगुने से हुए अधिक, टमाटर 60 रुपए प्रति किलो पार

चारामा. लॉकडाउन के समय हर तरफ हरी सब्जियों की भरमार देखने को मिल रही थी। जिसके कारण लोगों को सब्जियां काफी कम दाम में मिली। अब लॉकडाउन खुलने के बाद चारामा अंचल के हाट-बाजारों में सब्जियों के दाम सुनकर मानों ऐसा लग रहा कि जैसे आसमान छू रहें हों।

इन दिनों बजारों में सब्जियां पहले की अपेक्षा डेढ़ से दोगुने दाम पर बिक रही हैं। सब्जियों के दाम बढ़ने का कारण आवक में कमी उपर से डीजल की दामों में बेहताशा बढ़ोत्तरी से सब्जी ढोने वाले वाहनों में भाड़ा बढ़ना भी बताया जा रहा है।सब्जी के दामों में दिन । उछाल देखा जा रहा है। आगे भी सब्जियों के दाम बढ़ने की आशंका जतायी जा रही है।

चारामा अंचल की बात करें तो यहां पर अब तक बहुत कम बारिश हो पाई है. वहीं जहां से सब्जियां लाई जाती है, उस क्षेत्र में काफी हद तक बारिश होने के कारण भी सब्जियों की आवक कम होने की बात कही जा रही है। अभी वर्तमान में सब्जियों के दाम की बात करें तो टमाटर-60 रुपा, मुनगा-80 रुपए, ढेस-80 रुपा, भिन्डी-40 रुपा मिर्च-50 रुपए, करेला-60 रुपए, कोचई-40 रुपए, बैगन-40 रूपा बरबट्टी-60 | रुपए, अदरक-80 रुपए, धनिया- O रुपए ग्वारफली 60 स्परपरवल-60 रुपए, फूलगोभी-80 100 रुपए, पत्तागोभी-30 रुपए, खेख्सी-240-280 रुपए, मूली-30, लहसून-160 प्रति किलो की दर से बिक रही हैं।

कोरोना महामारी संकट के दौरान व लॉकडाउन के बाद रोजगार छीन जाने से महंगाई की मार झेल रहे बेरोजगारों को अब सब्जियां खरीदना भी दुश्वार हो गया है। सब्जियों के दाम लगातार बढ़ने से आमजन को खरीदना मुश्किल सा हो रहा है। घर की रसोई सम्हालने वाली गृहणियां भी आसमान छू रहे सब्जियों के दाम से हाय-तौबा कर रहीं हैं। मंहगी सब्जियों को एक किलो खरीदने के बजाय आधा या पाव किलो खरीदना मजबूरी हो गई है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post

RVKD NEWS

Ads1

Facebook

Ads2