लॉकडाउन में छत्तीसगढ़ के लोगों ने पीएफ से 210 करोड़ निकाले

रायपुर. कोरोना संक्रमण काल में नौकरीपेशा लोगों के लिए पीएफ खाते में जमा राशि बड़ा सहारा बनी है। लॉकडाउन से लेकर 30 जून तक प्रदेश में 90 हजार 199 पीएफ खाताधारकों ने अपने जीवनयापन के लिए लगभग 210.67 करोड़ की धनराशि खाते से निकाल ली है। ईपीएफओ के इतिहास में पहली बार तीन महीने में लाखों की संख्या में क्लेम का निस्तारण किया गया। खास बात यह भी रही कि 60 हजार से ज्यादा पुराने पफ खातों से भी धन निकासी की गई है।

लॉकडाउन के दौरान ही ईपीएफओ ने अंशधारकों को राहत देने के लिए पीएफ खाते से धननिकासी का मौका दिया, जिसका अंशधारकों ने कोरोना काल से अलग- अलग कारण बताकर के दौरान ही भी खाते से धन निकाला है। विभागीय ईपीएफओ ने अंशधारकों को राहत देने अधिकारियों ने बताया कि रेकार्ड क्लेम के लिए पीएफ खाते से धननिकासी फार्म का निस्तारण किया गया है।

2 लाख 16 हजार 111 को दी गई पेंशन
इस दौरान कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कार्यालय के जिम्मेदारों ने पेंशन राशि का जमकर वितरण किया है। अप्रैल से जून माह के बीच 2 लाख 16 हजार 111 पेंशनधारियों को 35.40 करोड़ राशि का वितरण किया गया है। प्रदेश में लगभग 18 लाख एक्टिव भविष्य निधि के सदस्य हैं। कोरोना काल में जरूरत पड़ने पर वे कर्मचारी ईपीएफओ से राशि एकत्र करके अप.आर्थिक तंगी को दूर कर रहे हैं।

लॉकडाउन-2 से अनलॉक -1 के बीच ज्यादा निकली राशि
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कार्यालय के अधिकारियों के अनुसार पीएफ खाते में सबसे ज्यादा निकासी खाताधारकों ने लॉकडाउन-2 से अनलॉक -1 के बीच किया है। अब भी पीएफ अंशधारक खाते से धन निकालने के लिए ऑनलाइन क्लेम फार्म भर रहे हैं। ईपीएफओ क्षेत्रीय कार्यालय में पीएफ खाताधारकों की रोजाना लाइन लग रही हैं।

कमिश्नर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन, आरआर. वर्मा बताया तीन माह में लगातार कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कार्यालय के अधिकारी कर्मचारियों ने काम करके क्लेम करने वाले भविष्य निधी सदस्यों की मदद की है। तीन माह में 97 हजार 688 क्लेम के मामले आए थे, जिसमें से 90 हजार 199 का क्लेम हमने पास कर दिया है। इन तीन माह में रेकॉर्ड पेंशन भी जारी की गई है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post

RVKD NEWS

Ads1

Facebook

Ads2